सबसे अच्छे Forex ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म

इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज

इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज

डीजल की कीमतों में फिर लगी आग, चेक करें नई रेट लिस्ट

कच्चे तेल के भाव में तेजी के बीच डीजल एक बार फिर महंगा हो गया है. वहीं, पेट्रोल के दाम लगातार आठवें दिन स्थिर ​हैं.

महंगाई की मार बरकरार

aajtak.in

  • नई दिल्ली,
  • 07 जुलाई 2020,
  • (अपडेटेड 07 जुलाई 2020, 8:10 AM IST)
  • लगातार 8वें दिन पेट्रोल के भाव स्थिर
  • डीजल की कीमत में 25 पैसे की तेजी

सप्ताह के दूसरे कारोबारी दिन यानी मंगलवार को एक बार फिर डीजल के भाव बढ़ गए. सरकारी तेल कंपनियों ने डीजल 25 पैसे महंगा कर दिया है. वहीं, पेट्रोल की कीमत में लगातार आठवें दिन स्थिरता बनी हुई है. इससे पहले लगातार 7 दिनों तक पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं हुआ था.

कितनी बढ़ गई कीमत

देश की राजधानी दिल्ली में डीजल की कीमत 80.78 रुपये प्रति लीटर पहुंच गई है. वहीं, मुंबई, चेन्नई और कोलकाता में डीजल के भाव क्रमश: 79.05, 77.91 75.89 रुपये प्रति लीटर पर हैं. दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल का भाव बिना किसी बदलाव के क्रमश: 80.43 रुपये, 82.10 रुपये, 87.19 रुपये और 83.63 रुपये प्रति लीटर बना हुआ है.

कच्चे तेल का क्या है हाल

अंतरराष्ट्रीय वायदा बाजार इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज यानी आईसीई पर बेंचमार्क कच्चा तेल ब्रेंट क्रूड में सोमवार को 0.35 फीसदी की तेजी आई और यह 42.95 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा था, जबकि इससे पहले ब्रेंट का भाव कारोबार के दौरान 43.09 डॉलर प्रति बैरल तक उछला. हालांकि, कच्चे तेल का भाव अब भी 45 डॉलर के दायरे में है.

क्या कहते हैं एक्सपर्ट

विशेषज्ञ बताते हैं कि दुनियाभर में कोरोना के गहराते प्रकोप के चलते कच्चे तेल की डिमांड अब भी उम्मीद के मुताबिक नहीं है. वहीं, ईरान और इजराइल के बीच तनाव की वजह से भी कच्चे तेल के भाव को बल मिला हैं.

ऐसे चेक करें तेल के भाव

आप भी अपने शहर में पेट्रोल और डीजल का भाव SMS के जरिए जान सकते हैं. इंडियन ऑयल के ग्राहक RSP लिखकर 9224992249 नंबर पर और बीपीसीएल ग्राहक RSP लिखकर 9223112222 नंबर पर भेज जानकारी हासिल कर सकते हैं. आपको बता दें कि पेट्रोल-डीजल के भाव रोजाना बदलते हैं और सुबह 6 बजे अपडेट हो जाते हैं.

विरोध के बीच लगातार तीसरे दिन पेट्रोल-डीजल के भाव स्थिर, कच्चे तेल में तेजी

पेट्रोल और डीजल के दाम में गुरुवार को लगातार तीसरे दिन स्थिरता बनी रही, जबकि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में उतार चढ़ाव बरकरार है.

तीन दिन से तेल के भाव स्थिर

aajtak.in

  • नई दिल्ली,
  • 02 जुलाई 2020,
  • (इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज अपडेटेड 02 जुलाई 2020, 8:18 AM IST)
  • पेट्रोल-डीजल की कीमतों को लेकर विपक्ष हमलावर
  • लगातार तीसरे दिन नहीं बढ़े पेट्रोल-डीजल के भाव

बीते कुछ दिनों से पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर विपक्ष हमलावर है. इसका दबाव तेल कंपनियों पर भी देखने को मिल रहा है. यही वजह​ है कि तीन दिन से तेल के भाव स्थिर हैं. हालांकि, बीते बुधवार को अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के भाव में तेजी जरूर देखी गई. बता दें कि बीते महीने 22 बार डीजल के दाम में वृद्धि हुई और पेट्रोल की कीमत में 21 बार वृद्धि की गई.

क्या है रेट लिस्ट

इंडियन ऑयल की वेबसाइट के मुताबिक दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल का भाव बिना किसी बदलाव के क्रमश: 80.43 रुपये, 82.इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज 10 रुपये, 87.19 रुपये और 83.63 रुपये प्रति लीटर बना हुआ है. डीजल का दाम भी चारों महानगरों में पूर्ववत क्रमश: 80.53 रुपये, 75.64 रुपये, 78.83 रुपये और 77.72 रुपये प्रति लीटर पर है.

कच्चे तेल का हाल

अंतरराष्ट्रीय वायदा बाजार इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज यानी आईसीई पर बेंचमार्क कच्चा तेल ब्रेंट क्रूड के भाव में 1.11 फीसदी की तेजी रही और यह 41.73 डॉलर प्रति बैरल पर बना हुआ था. कमोडिटी बाजार के जानकार बताते हैं कि अमेरिकल पेट्रोलियम इंस्टीट्यूट की रिपोर्ट में कच्चे तेल के भंडार में गिरावट का अनुमान लगाया गया है जिससे तेल के दाम में तेजी लौटी है.

भारत में बढ़ रही ईंधन की मांग

इस बीच, देश में लॉकडाउन के हटने और आर्थिक गतिविधियां बढ़ने के साथ ही ईंधन की मांग धीरे धीरे कोविड- 19 से पहले के स्तर के नजदीक पहुंचने लगी है. सरकार की ओर से जारी बयान के मुताबिक ईंधन की मांग कोविड- 19 से पहले के स्तर के 88 प्रतिशत तक पहुंच गई है.

इससे पहले अप्रैल में पेट्रोलियम उत्पादों की मांग 2007 के बाद के सबसे निचले स्तर तक गिर गई थी. बता दें कि भारत दुनिया में पेट्रोलियम उत्पादों का तीसरा सबसे इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज बड़ा उपभोक्ता देश है.

दिल्ली में 2 दिनों में 65 पैसे महंगा हुआ पेट्रोल और डीजल, लगातार दूसरे दिन भी बढ़ोतरी

दिल्ली में 2 दिनों में 65 पैसे महंगा हुआ पेट्रोल और डीजल, लगातार दूसरे दिन भी बढ़ोतरी

पेट्रोल और डीजल के दाम में शुक्रवार को फिर लगातार दूसरे दिन वृद्धि दर्ज की गई। देश की राजधानी दिल्ली में इन 2 दिनों में पेट्रोल और डीजल के दाम में 65 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी हो गई है। उधर अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में तेजी का सिलसिला जारी है। ब्रेंट क्रूड का भाव 59 डॉलर प्रति बैरल के ऊपर चला गया है।

पेट्रोल का भाव दिल्ली में 30 पैसे, कोलकाता में 29 पैसे, मुंबई में 29 पैसे और चेन्नई में 26 पैसे प्रति लीटर बढ़ा है। वहीं डीजल के दाम में दिल्ली में 30 पैसे, कोलकाता में 30 पैसे, मुंबई में 32 पैसे और चेन्नई में 29 पैसे प्रति लीटर का इजाफा हुआ है।

इंडियन ऑयल की वेबसाइट इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज के अनुसार, दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल का भाव बढ़कर क्रमश: 86.95 रुपये, 88.30 रुपये, 93.49 रुपये और 89.39 रुपये प्रति लीटर हो इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज गया है। डीजल की कीमतें भी दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में बढ़कर क्रमश: 77.13 रुपये, 80.71 रुपये, 83.99 रुपये और 82.33 रुपये प्रति लीटर हो गई है।

अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज (आईसीई) पर बेंचमार्क कच्चा तेल ब्रेंट क्रूड के अप्रैल डिलीवरी अनुबंध में शुक्रवार को बीते सत्र से 0.23 फीसदी की तेजी के साथ 59.23 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था। न्यूयॉर्क मर्केंटाइल एक्सचेंज (नायमैक्स) पर वेस्ट टेक्सस इंटरमीडिएट (डब्ल्यूटीआई) के मार्च अनुबंध में बीते सत्र से 0.71 फीसदी की तेजी के साथ 56.63 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था।

मंदी की चिंताओं के बीच 6 महीने के निचले स्तर पर इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज पहुंचा ब्रेंट क्रूड ऑयल

Crude oil price : मंदी की चिंताओं के बीच ब्रेंट क्रूड ऑयल 6 महीने के निचले स्तर पर पहुंच गया है. अमेरिका और चीन के कमजोर आर्थिक आंकड़ों ने वैश्विक मंदी की चिंताओं को जन्म दिया.

Published: August 17, 2022 4:12 PM IST

Brent crude oil price

Brent Crude Oil Price : वैश्विक आर्थिक मंदी की चिंताओं के बीच ब्रेंट वायदा ताजा निचले स्तर को छूने के साथ कच्चे तेल की कीमतों में बुधवार को गिरावट जारी रही. इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज पर ब्रेंट का अक्टूबर अनुबंध सत्र के दौरान छह महीने के निचले स्तर 91.58 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया.

Also इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज Read:

दोपहर 2.10 बजे के आसपास, वायदा अनुबंध 91.85 डॉलर प्रति बैरल पर था, जो पिछले बंद से 0.53% कम है.

Nymex पर वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट (WTI) का सितंबर अनुबंध 86.25% पर कारोबार कर रहा था, जो पिछले बंद से 0.32% कम है.

ईरान परमाणु समझौते के लिए अमेरिका-ईरान वार्ता में फिर से आगे बढ़ने की उम्मीद से भी तेल की कीमतों में और कमी आई है.

लाइव मिंट में प्रकाशित खबर के मुताबिक, कोटक सिक्योरिटीज में कमोडिटी रिसर्च के प्रमुख रवींद्र राव ने कहा, क्रूड कमजोर धारणा का संकेत दे रहा है, हालांकि हमें कुछ रिकवरी देखने को मिल सकती है. मांग की चिंता, चीन का वायरस फैल गया और ईरान की परमाणु वार्ता में प्रगति के बीच ईरान से उच्च आपूर्ति की संभावना कच्चे तेल की कीमत पर पड़ी.

अमेरिका और चीन के कमजोर आर्थिक आंकड़ों ने वैश्विक मंदी की चिंताओं को जन्म दिया. हाल ही में एक अमेरिकी सर्वेक्षण से पता चलता है कि दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में होमबिल्डर भावना (एचएमआई) कमजोर हो गई है और डेवलपर्स को लगता है कि देश “आवास मंदी” से गुजर रहा है.

चीन से उम्मीद से कमजोर आर्थिक आंकड़ों का भी निवेशकों की धारणा पर असर पड़ा. विश्लेषकों ने कहा कि चीन की खुदरा बिक्री और कारखाने के आंकड़ों में वृद्धि देखी गई, लेकिन बाजार की उम्मीदों से काफी कम थी. जुलाई में खुदरा बिक्री में एक साल पहले की तुलना में 2.7% की इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज वृद्धि हुई और साल-दर-साल आधार पर औद्योगिक उत्पादन में 3.8% की वृद्धि हुई.इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

रेटिंग: 4.67
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 357
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *