विदेशी मुद्रा व्यापार का परिचय

इंट्राडे ट्रेडिंग में स्टॉक का चुनाव कैसे करें

इंट्राडे ट्रेडिंग में स्टॉक का चुनाव कैसे करें
सपोर्ट लेवल कैलकुलेट करने का समीकरण :

Share Market book in hindi

Stock Market Closing: शेयर बाजार जोरदार बढ़त के साथ बंद, सेंसेक्स 700 अंक चढ़कर तो निफ्टी 17,688 पर बंद

By: ABP Live | Updated at : 01 Apr 2022 04:01 PM (IST)

Edited By: Meenakshi

Stock Market Closing 1st April 2022: वित्त वर्ष 2022-23 के पहले दिन आज 1 अप्रैल को शेयर बाजार में जबरदस्त तेजी देखने को मिली और सेंसेक्स-निफ्टी ने ऊपरी दायरे में ट्रेडिंग दिखाई. सेंसेक्स में 800 अंकों से ज्यादा की तेजी इंट्राडे ट्रेडिंग में दर्ज की गई और निफ्टी ने 17700 का स्तर भी पार कर लिया था.

कैसे बंद हुआ बाजार
आज के ट्रेडिंग सेशन में बीएसई का सेंसेक्स 708.18 अंक यानी 1.21 फीसदी की उछाल के साथ 59,276.69 पर जाकर बंद हुआ है और एनएसई का निफ्टी 223.25 अंक यानी 1.28 फीसदी की बढ़त के साथ 17,688 पर जाकर बंद होने में कामयाब रहा.

सेक्टोरियल इंट्राडे ट्रेडिंग में स्टॉक का चुनाव कैसे करें इंडेक्स
आज फार्मा और हेल्थकेयर इंडेक्स को छोड़कर बाकी सभी सेक्टोरियल इंडेक्स बढ़त के साथ बंद हुए हैं. पीएसयू बैंक करीब 4 फीसदी की तेजी के साथ बंद हुए हैं और रियल्टी शेयरों में 2.37 फीसदी की बढ़त देखी जा रही है. निजी बैंक 2.23 फीसदी चढ़े हैं और ऑयल एंड गैस सेक्टर 2.31 फीसदी ऊपर रहे.

Intraday Trading से कमाना चाहते है खूब पैसा? तो इन 9 टिप्स को करें फॉलो

Intraday Trading से कमाना चाहते है खूब पैसा? तो इन 9 टिप्स को करें फॉलो

Intraday Trading: शेयर मार्केट में हर कोई इंट्राडे ट्रेडिंग करके पैसा कमाना चाहता है, लेकिन यह उतना भी आसान नहीं और न ही उतना कठिन है। तो अगर आप भी Intraday Trading से पैसा कमाना चाहते इंट्राडे ट्रेडिंग में स्टॉक का चुनाव कैसे करें है तो यहां बताएं गए 9 टिप्स को फॉलो करें।

Make Money from Intraday Trading: इंट्राडे ट्रेडिंग उसी दिन (स्टॉक एक्सचेंज के खुलने और बंद होने के घंटों के भीतर) शेयरों को खरीदने इंट्राडे ट्रेडिंग में स्टॉक का चुनाव कैसे करें और बेचने का कार्य है, जिसका उद्देश्य उसी दिन प्रॉफिट बुक करने के लिए बाजार की अस्थिरता का लाभ उठाना है। यह बहुत अधिक रिटर्न की क्षमता के साथ आता है, इस प्रकार का व्यापार भी बहुत जोखिम भरा होता है। खरीदे गए शेयर को उसी दिन बेचे जाने की आवश्यकता होती है, वरना वे आपके एकाउंट में आटोमेटिक रूप से वितरित हो जाते हैं।

स्विंग ट्रेडिंग के लिए स्टॉक को कैसे चुने?

दरअशल स्विंग ट्रेडिंग में ज्यादातर लोग स्टॉक सिलेक्शन टेक्निकल एनालिसिस से ही करते है। इसमें fundamental analysis के ज्यादा रोल नही इंट्राडे ट्रेडिंग में स्टॉक का चुनाव कैसे करें होते। क्योंकि इसमें आपको थोड़े प्रॉफिट ही बूक करना होता है।

स्विंग ट्रेडिंग के लिए स्टॉक के चुनाव हमेशा nifty 50 या bank nifty से करे। ऐसे स्टॉक के ओर जाए जिसमे ज्यादा मूवमेंट हो। चार्ट को हमेशा सिंपल रखे और ज्यादा indicator से दूर रहे।

हमेशा मार्किट ट्रेंड को फॉलो करें और sideway market से दूर रहे।

स्विंग ट्रेडिंग के कैसे करें?

स्विंग ट्रेडिंग एक तरह का पोसिशनल ट्रेडिंग ही होते है। इसमे स्टॉक को शर्ट टाइम के लिए होल्ड इंट्राडे ट्रेडिंग में स्टॉक का चुनाव कैसे करें इंट्राडे ट्रेडिंग में स्टॉक का चुनाव कैसे करें किया जाता है।

स्विंग ट्रेडिंग के लिए स्टॉक buy आपको डिलीवरी में करना पड़ेगा। इसके लिए आपको पहले किसी भी एक ब्रॉकर के साथ जॉइन होकर डेमेंट अकाउंट क्रिएट करना पड़ेगा। डेमेंट एकाउंट क्रिएट होने के बाद आप वहाँ जाकर स्टॉक आर्डर लगा सकते हो।

स्विंग ट्रेडिंग के लाभ

  • यह इंट्राडे ट्रेडिंग के तुलना में कम रिस्क है, क्योंकि इसमें आपको काफी समय मिल जाते है।
  • स्विंग ट्रेडिंग में स्टॉक को एक दिन या कोई हप्तों तक रख सकते हो। यानी कि आपको सारे दिन चाट निकलकर बैठे रहने के जरूरत नही पड़ते।
  • स्विंग ट्रेडिंग को पार्ट टाइम कर सकते है। इसे बिज़नेस या जॉब करें लोग भी कर पाते है।
  • इंट्राडे ट्रेडिंग में स्टॉक का चुनाव कैसे करें
  • स्विंग ट्रेडिंग में छोटे – छोटे रिटर्न्स वार्षिक में एक अच्छा रिटर्न्स बन जाता है।
  • स्विंग ट्राडिंग के लिए ज्यादा फंडामेंटल एनालिसिस की जरूरत नही होते। आपको अगर टेक्निकल एनालिसिस आता है तो तब भी आप इससे पैसा बना सकते हो।
  • स्विंग ट्रेडिंग इंट्राडे के तुलना में कम noisy होते है।
  • अख्शर देखा जाता है कि मार्किट बहुत ज्यादा gap down ओपन होते है। जिससे ट्रेडर को लोस होने के चांस रहते है।
  • इंट्राडे के हिसाब से इसमे बहुत कम रिटर्न्स मिलते है।
  • इंट्राडे के तरह स्विंग में किसी तरह मार्जिन नही मिलते। स्विंग ट्रेडिंग में overnight और वीकेंड रिस्क शामिल रहता है।

Conclusion

अगर एक नए बंदे शेयर मार्केट में निवेश के बारे सोच रहे हो तो उसके लिए स्विंग ट्रेडिंग बेस्ट रहते है। क्योंकि इसमें इंट्राडे के तुलना में कम रिस्क होते है।

तो दोस्तो मुझे उम्मीद है स्विंग ट्रेडिंग क्या है (Swing Trading In Hindi) यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। आर्टिकल पसंद आया है तो हमे कमेंट जरूर करे जिससे हमें अनुप्रेणा मिलते है।

Suraj Debnath

असम के निवासी सूरज देबनाथ इस ब्लॉग के संस्थापक है। इन्होने विज्ञान शाखा में स्नातक किया हुआ है। इन्हें शेयर मार्किट, टेक्नोलॉजी, ब्लोगिंग ,पैसे कमाए जैसे विषयों का काफी अनुभव है और इन विषयों पर आर्टिकल लिखते आये है। Join Him On Instagram- Click Here

टाइम फ्रेम

ट्रेडर्स आमतौर पर पिवट पॉइंट्स का इस्तेमाल छोटे टाइम फ्रेम का चार्ट बनाने के लिए करते हैं. या तो ज्यादा से ज्यादा 4 इंट्राडे ट्रेडिंग में स्टॉक का चुनाव कैसे करें घंटे या फिर कम से कम 15 मिनट का चार्ट बनाया जा सकता है.

पिवट पॉइंट पांच तरह के होते हैं. फाइव-पॉइंट सिस्टम में स्टैंडर्ड पिवट पॉइंट (Standard Pivot Point) का इस्तेमाल किया जाता है. इसके अलावा बाकी चार पिवट पॉइंट्स को- Camarilla Pivot Point, Denmark Pivot Point, Fibonacci Pivot Point और Woodies Pivot Point कहते हैं.

पिवट पॉइंट्स दूसरे इंडिकेटर्स या संकेतकों से अलग कैसे है?

पिवट पॉइंट सिस्टम मौजूदा प्राइस में मूवमेंट पर निर्भक रहने के इंट्राडे ट्रेडिंग में स्टॉक का चुनाव कैसे करें बजाय, पिछले सत्र के डेटा का इस्तेमाल करता है. इस अप्रोच से ट्रेडर्स को आगे की संभावनाओं का जल्दी पता चलता है और वो इसके हिसाब से स्ट्रेटजी तैयार कर सकते हैं. ये पिवट पॉइंट अगले ट्रेडिंद सेशन तक स्टैटिक यानी स्थिर रहते हैं.

एक्सपर्ट्स का कहना है कि पिवट पॉइंट्स ज्यादा बेहतर मदद बस इंट्रा-डे ट्रेडिंग में ही करते हैं क्योंकि ये बहुत ही सीधी गणना पर आधारित होते हैं और इस वजग से स्विंग ट्रेडिंग में काम नहीं आ सकते. साथ ही, अगर करेंसी में प्राइस मूवमेंट बहुत ज्यादा होने लगी तो इससे पिवट पॉइंट्स के अनुमान व्यर्थ हो सकते हैं. ऐसे में जब बाजार में ज्यादा वॉलेटिलिटी हो यानी कि ज्यादा उतार-चढ़ाव हो तो निवेशकों को सलाह दी जाती है कि वो पिवट पॉइंट्स पर भरोसा न करें क्योंकि प्राइस मूवमेंट किसी भी कैलकुलेशन स्ट्रेटजी को धता बता सकता है.

Intraday Trading Ki Pehchan

यह बुक भी शेयर मार्केट सीखने के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि बहुत से इन्वेस्टर इंट्राडे ट्रेडिंग के द्वारा ही शेयर बाजार में इन्वेस्ट करते हैं और यह जल्दी पैसे कमाने का शेयर मार्किट में अच्छा विकल्प होता है

दोस्तों इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए आपको टिप्स और ट्रिक्स के बारे में पता होना चाहिए क्योंकि जब आपको इनके तरीके के बारे में पता होगा तभी आप इसमें लाभ कमाने के लिए ज्यादा अवसर मिलेंगे और उतना ही पैसे डूबने की संभावना कम होंगी

इस बुक में आपको इंट्राडे ट्रेडिंग और मार्केट सिक्योरिटी के बारे में और इसके अलावा रिस्क कंट्रोल और पोर्टफोलियो मैनेजमेंट में के बारे में सीखने को मिलेगा

Hindi Edition – Buy Now

Kaise Stock Market Mein Nivesh Kare

इस बुक को सीएनबीसी आवाज टीवी चैनल द्वारा लांच किया गया है और इस बुक में आपको भारतीय शेयर मार्केट के बारे में ओर अच्छे से समझ पाएंगे क्योंकि इसमें शेयर मार्केट से जुड़ी सारी बातें सारी बुनियादी बातों को सरल व आसान शब्दों में समझाया गया है

इस बुक के द्वारा आप शेयर मार्किट का विश्लेषण करना सीख पाएंगे और किसी स्टॉक में निवेश करने से पहले क्या ध्यान रखना चाहिए इसके अलावा शेयर मार्केट में निवेश के दौरान होने वाली गलतियों कैसे बचे और यह कैसे काम करता है इसके बारे में ओर अच्छे से समझ पाएंगे

Hindi Edition – Buy Now

ट्रेडनीति – कैसे बने सफल प्रोफेशनल ट्रेडर

Share Market Books for Beginners in Hindi – यह बुक शेयर बाजार में रूचि रखने वाले व नए इन्वेस्टर के लिए सबसे बेस्ट बुक मानी जाती है क्योंकि यह बुक भारतीय लेखक द्वारा लिखी गयी है और इनका नाम युवराज कलशेट्टी है और इस बुक की खास बात यह भी है कि इसमें आपको एक ही बुक में शेयर बाजार से जुड़ी सारी जानकारी सरल व आसान भाषा में मिल जाएगी जिससे नए इन्वेस्टर को शेयर बाजार से जुड़ी चीजों को समझना बहुत ही आसान हो जाएगा

इस बुक में आप सीखेंगे कि सही स्टॉक को चुनाव व शेयर बाजार के रिस्क को कैसे समझ सकेंगे और सही समय पर स्टॉक चुनना सीखेंगे और इसके अलावा यह भी सीखेंगे फंडामेंटल एनालिसिस कैसे करे व टेक्निकल एनालिसिस के बारे में भी सीखेंगे

Hindi Edition – Buy Now

रिच डैड पुअर डैड

Rich Dad Poor Dad Book In Hindi

दोस्तों यह बुक नए इन्वेस्टर के लिए या फिर जो लोग इन्वेस्ट करना चाहते है उनके लिए यह बुक बहुत महत्वपूर्ण मानी जाती है क्योकि इस बुक में पैसों का मैनेजमेंट करने के लिए अच्छे तरीके बताए गए हैं और इस बुक के लेखक के रूप में सर्वाधिक विख्यात रॉबर्ट कियोसाकी ने पूरे संसार के करोड़ों लोगों से पैसे संबंधी सोच को चुनौती दी और उनके सोचने इंट्राडे ट्रेडिंग में स्टॉक का चुनाव कैसे करें के नज़रिये को बदल दिया और उन्होंने इस बुक को 1997 में लेखा था रिच डैड पुअर डैड की बुक अंतरराष्ट्रीय बेस्ट सेलर के लिस्ट में शामिल रही है

आप इस बुक इंट्राडे ट्रेडिंग में स्टॉक का चुनाव कैसे करें को पढ़कर आपको पैसे के समझ अच्छे से आ जाएगी जिससे आप जान पाएंगे कि पैसों को अपने लिए इस्तेमाल करके अमीर कैसे बन सकते है जिससे कि भविष्य में आपको पैसे से संबंधित किसी प्रकार की समस्या नहीं होगी और इस बुक में फाइनेंस से जुड़ी सारी बातें अच्छे से बताई गई है इसलिए आपको इस बुक को एक बार जरूर पढ़ना चाहिए

रेटिंग: 4.44
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 320
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *