स्केलिंग रणनीतियां

बिटकॉइन का व्यापार कहां करें

बिटकॉइन का व्यापार कहां करें
What is cryptocurrency

क्या है क्रिप्टोकरेंसी, देश में इसकी खरीद, बिक्री कैसे करें? यहां जानें वो बातें जो आपको कोई नहीं बताएगा

Cryptocurrency व्यापार लगातार विकसित हो रहा है। क्रिप्टोकरेंसी में रुचि रखने वाले लोग इसके बारे में अधिक से अधिक जानना चाहते हैं। भारत में क्रिप्टोकरेंसी बाजार में 12-15 क्रिप्टो एक्सचेंजों का वर्चस्व है, जिसमें दैनिक ट्रेडिंग वॉल्यूम 500 रुपये से लेकर 1500 करोड़ रुपये तक है।

Cryptocurrency व्यापार लगातार विकसित हो रहा है। क्रिप्टोकरेंसी में रुचि रखने वाले लोग इसके बारे में अधिक से अधिक जानना चाहते हैं। भारत में क्रिप्टोकरेंसी बाजार में 12-15 क्रिप्टो एक्सचेंजों का वर्चस्व है, जिसमें दैनिक ट्रेडिंग वॉल्यूम 500 रुपये से लेकर 1500 करोड़ रुपये तक है। यहां आज हम भारत में क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग के बारे में बता रहे हैं। जिसमें क्रिप्टोकरेंसी को कैसे खरीदना और बेचना है, उन्हें कहां खरीदना है आदि शामिल है।

Cryptocurrency क्या है?

इससे पहले कि हम ट्रेडिंग प्रक्रिया के बारे में जानें, उससे पहले आइए इस में निवेश की मूल बातें समझें। क्रिप्टोकरेंसी एक प्रकार का डिजिटल भुगतान है जिसका उपयोग गुड्स और सर्विस का ऑनलाइन लेनदेन करने के लिए किया जाता है। क्रिप्टो कंपनियां ‘टोकन’ जारी करती हैं जिन्हें ऑनलाइन खरीदा जा सकता है और ऑनलाइन खरीदे गए गुड्स और सर्विस के लिए कारोबार किया जा सकता है। क्रिप्टोकरेंसी फिजिकली मौजूद नहीं है; वे केवल डिजिटल रूप में हैं।

क्रिप्टोकरेंसी ‘ब्लॉकचैन’ नामक तकनीक पर चलती है। ब्लॉकचेन विकेंद्रीकृत तकनीक का एक रूप है जो आपके लेनदेन के बारे में जानकारी को एन्क्रिप्टेड रूप से स्टोर करता है। इसके माध्यम से आपके क्रिप्टो टोकन के जालसाजी को रोकने में मदद मिलती है।

What is cryptocurrency

भारत में उपलब्ध विभिन्न क्रिप्टोकरेंसी कौन सी हैं?

जब हम क्रिप्टोकरेंसी के बारे में सोचते हैं, तो हमारे दिमाग में हमेशा ‘बिटकॉइन’ आता है। हालांकि, बिटकॉइन के अलावा एथेरियम, लिटकोइन, डार्क कॉइन, डैश जैसे और भी करेंसी पेश किए गए हैं। चूंकि संपूर्ण क्रिप्टोकरेंसी लेनदेन ऑनलाइन है, भारत में लगभग सभी क्रिप्टोकरेंसी उपलब्ध हैं। सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी हैं:

भारत में क्रिप्टोकरेंसी कैसे खरीद सकते हैं?

क्रिप्टोकरेंसी खरीदने के लिए आपके पास एक डिजिटल वॉलेट होना चाहिए। जबकि कुछ क्रिप्टोकरेंसी, जैसे कि बिटकॉइन, को यूएस डॉलर से खरीदा बिटकॉइन का व्यापार कहां करें जा सकता है। ये वॉयलेट, जो एक इंटरनेट टूल है, ये आपके फंड को स्टोर करता है। सामान्य तौर पर, आप एक क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज पर एक खाता खोलते हैं और फिर बिटकॉइन या एथेरियम जैसी क्रिप्टोकरेंसी की खरीददारी करते हैं।

ऐसे खरीदें क्रिप्टोकरेंसी

किसी भी क्रिप्टो एक्सचेंज पर क्रिप्टोकरेंसी खरीदना बहुत आसान है। इन प्लेटफार्मों पर कोई भी रजिस्टर्ड हो सकता है क्योंकि खाता बनाने के लिए आपको केवल अपने ईमेल पते की आवश्यकता होती है।

चरण 1: क्रिप्टो एक्सचेंज ऐप्स में से एक को डाउनलोड और इंस्टॉल करें

चरण 2: बुनियादी व्यक्तिगत और बैंक विवरण देते हुए एक खाता रजिस्टर करें और बनाएं

चरण 3: फिर क्रिप्टो वॉलेट पर लेनदेन करने के लिए आपको 2FA वेरिफिकेशन कोड सेट करना होगा

चरण 4: अब आप क्रिप्टोकरेंसी में ट्रेडिंग शुरू करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। आपका ऐप ट्रेडिंग के लिए उपलब्ध सभी क्रिप्टोकरेंसी और उनकी कीमतों को लिस्ट करेगा। आप जो चाहें खरीद सकते हैं।

क्या है Bitcoin? कैसे करते हैं इस वर्चुअल करेंसी में ट्रेडिंग, जानिए आपके काम का सबकुछ

Bitcoin की शुरुआत 2009 में हुई थी. शुरुआती कुछ सालों में बिटकॉइन में धीरे-धीरे बढ़ रही थी. लेकिन, 2015 के बाद से इसमें बड़ी तेजी देखने को मिली और यह दुनिया की नजरों में आ गई.

बिटकॉइन की कीमत दुनियाभर में एक समय पर समान रहती है. इसलिए इसकी ट्रेडिंग मशहूर हो गई. (Reuters)

दुनियाभर में क्रिप्टोकरंसी (CryptoCurrency) बिटकॉइन (Bitcoin) का क्रेज तेजी से बढ़ रहा है. बिटकॉइन में निवेश करने वाले अमीर लोग इस ऑनलाइन करंसी (Online Currency) के जरिए अपनी पूंजी को तेजी से बढ़ाना चाहते हैं. यही वजह है कि इसके दाम भी नई ऊंचाइयां छू रहे हैं. 3 साल बाद एक बार फिर बिटकॉाइन में बड़ी तेजी देखने को मिली है. साल 2017 में बिटकॉइन में अपना रिकॉर्ड हाई (Bitcoin record High) बनाया था. इसके बाद नीचे की तरफ फिसलती गई. लेकिन, अब 3 साल का नया हाई बना दिया है. दुनियाभर में इस करंसी में लोग पैसा लगा रहे हैं. लेकिन, भारत सरकार (India Government) का मानना है कि उसके पास वर्चुअल करंसी (Virtual currency) का कोई डेटा नहीं है और इसलिए इसकी ट्रेडिंग में खतरा हो सकता है.

कब हुई थी बिटकॉइन की शुरुआत? (History of Bitcoin)
बिटकॉइन की शुरुआत 2009 में हुई थी. शुरुआती कुछ सालों में बिटकॉइन में धीरे-धीरे बढ़ रही थी. लेकिन, 2015 के बाद से इसमें बड़ी तेजी देखने को मिली और यह दुनिया की नजरों में आ गई. कई देशों में इस वर्चुअल करंसी में ट्रेडिंग (Virtual Currency trading) को लीगल माना गया और बिटकॉइन की कीमत लगातार बढ़ती गई. मौजूदा वक्त में इसकी कीमत 18000 डॉलर के पार निकल चुकी है. यह एक तरह की डिजिटल करंसी (Digital Currency) है. इसकी शुरुआत सतोशी नाकामोतो (Satoshi Nakamoto) नाम के शख्स ने की थी. भारत में भी गुपचुप तरीके से बिटकॉइन ट्रेडिंग (Bitcoin me trading kaise karein) की जा रही है. हालांकि, सरकार ने अब तक इसे लेकर नीतियां नहीं बनाई हैं. वहीं, सुप्रीम कोर्ट से इसकी मंजूरी मिल चुकी है.

कैसे होती है बिटकॉइन में ट्रेडिंग? (How to trade in bitcoin?)
बिटकॉइन ट्रेडिंग डिजिटल वॉलेट (Digital wallet) के जरिए होती है. बिटकॉइन की कीमत दुनियाभर में एक समय पर समान रहती है. इसलिए इसकी ट्रेडिंग मशहूर हो गई. दुनियाभर की गतिविधियों के हिसाब से बिटकॉइन की कीमत घटती बढ़ती रहती है. इसे कोई देश निर्धारित नहीं करता बल्कि डिजिटली कंट्रोल (Digitally controlled currency) होने वाली करंसी है. बिटकॉइन ट्रेडिंग का कोई निर्धारित समय नहीं होता है. इसकी कीमतों में उतार-चढ़ाव भी बहुत तेजी से होता है.

बिटकॉइन का भी है एक्सचेंज (Bitcoin cryptocurrency trading exchange)
Kraken के जरिए बिटकॉइन में ट्रेडिंग (Bitcoin trading) की जा सकती है. यह क्रिप्टोकरंसी का एक्सचेंज (Cryptocurrency exchange) है. जिसे 2011 में बनाया गया था. इसके लिए पहले अपना अकाउंट बनाना होता है. इसके बाद ईमेल के जरिए अकाउंट कन्फर्म करना होता है. अकाउंट वेरिफाइ (Account verification) होने के बाद आप ट्रेडिंग मेथड सिलेक्ट कर सकते हैं. ट्रेडिंग के लिए चार्ट (Bitcoin trading chart) मौजूद होता है, जिसमें बिटकॉइन की कीमत की हिस्ट्री होती है. आप समय पर बिटकॉइन का ऑर्डर (How to order bitcoin) देकर खरीद सकते हैं और बेच सकते हैं. बिटकॉइन की कीमतों में बदलाव बहुत ही अप्रत्याशित और तेज होता है. इन्वेस्टमेंट के हिसाब से लोगों को ये काफी लुभावना लगता है.

खरीद-फरोख्त की नहीं होती कोई जानकारी (Bitcoin investment details)
बिटकॉइन (Bitcoin) के लेनदेन का एक लेजर बनाया जाता है. दुनिया में लाखों व्यापारी भी बिटकॉइन से लेनदेन करते हैं. हालांकि, किसी भी केंद्रीय बैंक ने अभी इसको मान्यता नहीं दी है. अमेरिका की कई दिग्गज कंपनियां भी बिटकॉइन को स्वीकार करती हैं. इंटरनेट की दुनिया में इसकी खरीद-फरोख्त कराने वाले कई एक्सचेंज हैं. इंटरनेट की कई वेबसाइट और ऐप के माध्यम से इसकी खरीद-फरोख्त होती है. इसमें खरीद-फरोख्त करने वालों की जानकारी छुपी रहती है.

ज़ी बिज़नेस LIVE TV यहां देखें

क्या है बिटकॉइन का नुकसान? (Disadvantage of Bitcoin)
बिटकॉइन करेंसी से सबसे बड़ा नुकसान यह है कि अगर आपका कंप्यूटर हैक हो गया तो फिर यह वापस नहीं होगी यानी रिकवर नहीं होगी. इतना ही नहीं इसकी चोरी होने की आप पुलिस में या कहीं भी शिकायत दर्ज नहीं करा सकते हैं.

अनिल अंबानी की कर्ज में डूबी रिलायंस इंफ्राटेल को खरीदेंगे मुकेश अंबानी, NCLT से मिली मंजूरी

LagatarDesk : रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन और दिग्गज उद्योगपति मुकेश अंबानी अपने छोटे भाई अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस इंफ्राटेल खरीदने जा वाले हैं. नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT) ने रिलायंस जियो को रिलायंस इंफ्राटेल के अधिग्रहण की मंजूरी दे दी है. एनसीएलटी ने रिलायंस इंफ्राटेल के टावर और फाइबर की संपत्तियों के अधिग्रहण के लिए रिलायंस जियो को एसबीआई के एस्क्रो खाते में 3,720 करोड़ जमा करने को कहा है. आरबीआई ने पिछले साल रिलायंस इंफ्राटेल को दिवालिया घोषित करने की शुरू कीदी थी, जो अभी भी चल रही है. (पढ़ें, धरती पर बिटकॉइन का व्यापार कहां करें पानी कहां से आया…यह राज 460 करोड़ साल पुराना उल्कापिंड खोलेगा…)

अंबानी ने 2019 में रिलायंस इंफ्राटेल को खरीदने के लिए लगाई थी बोली

कर्ज में डूबी रिलायंस इंफ्राटेल को खरीदने के लिए मुकेश अंबानी ने नवंबर 2019 में 3,720 करोड़ की बोली लगाई थी. लेनदारों की समिति ने 4 मार्च 2020 को 100 प्रतिशत वोट देकर इस अधिग्रहण की मंजूरी दे दी थी. 6 नवंबर को जियो ने रिलायंस इंफ्राटेल के अधिग्रहण में तेजी लाने के लिए ट्रिब्यूनल का रुख किया था. मुकेश अंबानी ने अधिग्रहण को पूरा करने के लिए एस्क्रो खाते में 3,720 करोड़ जमा करने की अनुमति मांगी थी. बता दें कि देश में आरआईटीएल के पास लगभग 1.78 लाख रूट किलोमीटर की फाइबर संपत्ति और 43,540 मोबाइल टावर है.

शुभेंदु अधिकारी ने नंदीग्राम में स्वीकारी ममता की चुनौती, 50 हजार मतों से हराने का दावा

नंदीग्राम: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपने राजनीतिक प्रतिद्वंदी और दिग्गज नेता शुभेंदु अधिकारी को चुनौती देते हुए सोमवार को ऐलान किया कि वह उनके गढ नंदीग्राम से आगामी विधानसभा चुनाव लड़ेंगी. उसके तुरंत बाद बीजेपी नेता अधिकारी ने चुनौती स्वीकार कर ली और कहा कि वह चुनाव में उन्हें हरायेंगे, वरना राजनीति छोड़ देंगे. अधिकारी हाल ही में तृणमूल छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गये थे. बनर्जी ने इस बड़ी घोषणा के लिए नंदीग्राम को चुना जो बीजेपी से दो-दो हाथ करने के तृणमूल कांग्रेस प्रमुख के संकल्प का परिचायक है. बीजेपी राज्य में एक दशक से राज कर रही तृणमूल को सत्ता से उखाड़ फेंकने की जी-तोड़ कोशिश में जुटी है.

नंदीग्राम से चुनाव लड़ने का ऐलान

मुख्यमंत्री ने यहां एक रैली में कहा कि दूसरे दलों में जाने वालों को लेकर उन्हें कोई चिंता नहीं क्योंकि जब तृणमूल कांग्रेस बनी थी, तब उनमें से शायद ही कोई साथ था. उन्होंने कहा कि इन नेताओं ने पिछले कुछ सालों के दौरान ‘अपने द्वारा लूटे गये’ धन को बचाने के लिए पार्टी (तृणमूल कांग्रेस) छोड़ी. बनर्जी ने कहा, ‘मैंने हमेशा से नंदीग्राम से विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार अभियान की शुरुआत की है. यह मेरे लिए भाग्यशाली स्थान है. इस बार,मुझे लगा कि यहां से विधानसभा चुनाव लड़ना चाहिए. मैं प्रदेश पार्टी अध्यक्ष सुब्रत बख्शी से इस सीट से मेरा नाम मंजूर करने का अनुरोध करती हूं.’ मंच पर मौजूद बख्शी ने तुरंत अनुरोध स्वीकार कर लिया.

शुभेंदु अधिकारी ने स्वीकारी ममता की चुनौती

उस पर, कोलकाता में रोड शो और जनसभा कर रहे अधिकारी ने कहा, ‘यदि मुझे मेरी पार्टी (बीजेपी) नंदीग्राम से चुनाव मैदान में उतारती है तो मैं उनको कम से कम 50,000 वोटों के अंतर से हराऊंगा, अन्यथा मैं राजनीति छोड़ दूंगा.’ उन्होंने कहा कि लेकिन तृणमूल कांग्रेस जहां बनर्जी और उनके भतीजे ‘तानाशाही’ तरीके से चलाते हैं. वहीं बीजेपी में उम्मीदवार चर्चा के बाद तय किये जाते हैं और मेरी उम्मीदवारी पर फैसला पार्टी को करना है. उन्होंने कहा, ‘मैं नहीं जानता कि मुझे कहां से उतारा जाएगा और उतारा भी जाएगा या नहीं.’

Lion और Tigress के मेल से पैदा होता है LIGER, सबसे खतरनाक जानवर को जानिए

नंदीग्राम में अधिकारी थे टीएमसी का चेहरा

नंदीग्राम विशेष आर्थिक क्षेत्र के निर्माण के लिए तत्कालीन वाम मोर्चा सरकार के ‘जबरन’ ‘जमीन अधिग्रहण के विरूद्ध विशाल जनांदोलन का केंद्र था. लंबे समय तक चले और रक्तरंजित रहे इस आंदोलन के चलते ही बनर्जी और उनकी पार्टी उभरी एवं 2011 में तृणमूल कांग्रेस सत्ता में पहुंचीं’ इसी के साथ 34 साल से जारी वाम शासन पर पूर्ण विराम लगा था. अधिकारी नंदीग्राम आंदोलन का चेहरा समझे जाते हैं. हालांकि पाला बदलकर बीजेपी में जा चुके अधिकारी ने अक्सर बनर्जी पर आरोप लगाया कि जिस क्षेत्र ने बनर्जी को सत्ता दिलाने में मदद पहुंचायी, उस क्षेत्र के लोगों को उन्होंने भुला दिया. बनर्जी फिलहाल दक्षिण कोलकाता के भवानीपुर से विधायक हैं.

जो गए, उन्हें बनने दीजिए राष्ट्रपति-उपराष्ट्रपति: ममता बनर्जी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि यदि संभव हुआ तो मैं भवानीपुर और नंदीग्राम दोनों जगहों से चुनाव लडूंगी. नंदीग्राम मेरी बड़ी बहन है और भवानीपुर मेरी छोटी बहन. यदि मैं भवानीपुर से चुनाव नहीं लड़ पायी तो मैं वहां से कोई और मजबूत उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतारूंगी. उन्होंने कहा कि वह ‘कुछ लोगों’ को बंगाल को कभी बीजेपी के हाथों नहीं बेचने देंगी. उन्होंने कहा कि जो पार्टी से चले गये, उन्हें मेरी शुभकामनाएं हैं. उन्हें देश का राष्ट्रपति एवं उपराष्ट्रपति बनने दीजिए. लेकिन आप बंगाल को बीजेपी के हाथों बेचने का दुस्साहस नहीं करें. जब तक मैं जिंदा हूं, मैं उन्हें अपने राज्य को बीजेपी के हाथों नहीं बिकने दूंगी.

बीजेपी सबसे बड़ी कबाड़ पार्टी: ममता बनर्जी

तृणमूल सूत्रों ने बताया कि बनर्जी का ऐलान पूर्वी और पश्चिमी मिदनापुर जिलों एवं आसपास के क्षेत्र के पार्टी कार्यकर्ताओं को एकजुट करेगा जो अधिकारी के पार्टी छोड़ देने के बाद बिना पतवार की नाव जैसा महसूस कर रहे हैं. अधिकारी का जिक्र किये बगैर बनर्जी ने कहा कि राज्य जीतने का सपने देखने से पहले उन्हें स्थानीय तृणमूल नेताओं से संघर्ष करना होगा. उन्होंने वाममोर्चा सरकार के दौरान जबरन जमीन अधिग्रहण के विरूद्ध नंदीग्राम और सिंगूर में अपने नेतृत्व में छेड़े गये आंदोलन को याद करते हुए कहा कि बीजेपी दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के प्रदर्शन को कमतर आंक कर वही भूल कर रही है. मुख्यमंत्री ने कहा, ‘माकपा ने किसानों की जमीन छीनने का प्रयास किया था. भाजपा किसानों की फसल छीनने का प्रयत्न कर रही है.’ प्रतिद्वंद्वी दलों के नेताओं को पार्टी में शामिल करने पर बीजेपी पर निशाना साधते हुए बनर्जी ने कटाक्ष किया कि बीजेपी देश में सबसे बड़ी कबाड़ पार्टी है. बीजेपी कोई राजनीतिक दल नहीं है बल्कि वाशिंग पाउडर है… वह तृणमूल कांग्रेस के नेताओं को अपने में शामिल करने के वास्ते पैसे और धमकियों का इस्तेमाल कर रही हैं. अपनी पार्टी के दल-बदल का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि बीजेपी भले ही कुछ नेताओं को खरीद ले लेकिन वह बंगाल के लोगों को खरीद नहीं सकती. उन्होंने कहा कि तृणमूल कांग्रेस लगातार तीसरी बार जीतकर सत्ता में आयेगी और भाजपा का सफाया हो जाएगा.

पिछले माह बीजेपी में शामिल हुए थे शुभेंदु अधिकारी

पिछले महीने शुभेंदु अधिकारी केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह की मौजूदगी में बीजेपी में शामिल हो गये. उन्होंने अपने छोटे भाई सौमेंदु को बीजेपी में शामिल होने के लिए राजी कर लिया. सौमेंदु को कांति नगरपालिका के प्रशासक पद से हटा दिया गया है. शुभेंदु अधिकारी के छोटे भाई दिब्येंदु और पिता शिशिर अधिकारी क्रमश: तमुक और कांथी से लोकसभा सदस्य है. दोनों ही बनर्जी की रैली में नहीं पहुंचे. इन अधिकारी बंधुओं का पूर्व और पश्चिमी मिदनापुर, बांकुरा, पुरुलिया, झारग्राम और बीरभूम तथा अल्पसंख्यक बहुल मुर्शिदाबाद जिले के कम से कम 40-45 विधानसभा क्षेत्रों में अच्छा खासा प्रभाव है. राज्य में अप्रैल-मई में विधानसभा चुनाव होने हैं.

क्रेडिट/डेबिट कार्ड से बिटकॉइन ऑनलाइन खरीदने से पहले 5 सुरक्षा उपाय

क्या आप अपना पहला बिटकॉइन खरीदने के लिए तैयार हैं? बिटकॉइन इन दिनों एक ठोस निवेश है और शायद अब तक हर कोई इसे जानता है! आज बाजार में हजारों क्रिप्टोकरेंसी हैं लेकिन बिटकॉइन सबसे पहला और सबसे बड़ा है। हालांकि, अपने निवेश की रक्षा करना महत्वपूर्ण है। बिटकॉइन को विकेंद्रीकृत डेटा ब्लॉक के साथ सुरक्षित ब्लॉकचेन तकनीक पर संग्रहित किया जाता है।

यदि आप उन्हें सुरक्षित रूप से खरीदना चाहते हैं, तो आप निम्नलिखित उपायों पर विचार कर सकते हैं और अपना जोखिम कम कर सकते हैं:

1. अपना शोध करें:
क्रिप्टो निवेशों को प्रबंधित करने का सबसे अच्छा तरीका यह जानना है कि आप कहां निवेश कर रहे हैं और आपकी रणनीतियां क्या हैं। क्रिप्टो बहुत अस्थिर है और इसलिए आपको हर कदम का पता लगाने की जरूरत है। आप एक जंगली पश्चिम में प्रवेश कर रहे हैं, इसलिए कुछ भी न लें और बुद्धिमानी से चुनें। आम तौर पर लोग बिटकॉइन एटीएम से बिटकॉइन खरीदते हैं जबकि अन्य उन्हें ऑनलाइन खरीदना पसंद करते हैं। पता लगाएँ कि कौन सा प्लेटफ़ॉर्म आपके लिए सबसे अच्छा है और आप कहाँ दीर्घकालिक लाभ चाहते हैं।

2. एक्सचेंज प्लेटफॉर्म पर फोकस:
जैसा कि पहले चर्चा की गई है, क्रिप्टो एक्सचेंज प्लेटफॉर्म निवेश में एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं। कई प्लेटफॉर्म आपको प्रदान करते हैं क्रेडिट या डेबिट कार्ड से ऑनलाइन बिटकॉइन खरीदें यहां तक ​​कि उनका एटीएम भी अधिकांश प्लेटफार्मों में शुरुआती या अनुभवी क्रिप्टो उपयोगकर्ताओं के लिए लेनदेन प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए गाइड हैं। प्रतिष्ठित कंपनियों की तलाश करें जिनके पास कड़ी सुरक्षा है और उनकी संपत्ति का पसंदीदा प्रतिशत है। वास्तविक फर्मों के पास एंटी-हैकिंग सिस्टम और सुरक्षित तकनीक होगी। जांचें कि क्या फर्म चोरी और धोखाधड़ी के खिलाफ बीमाकृत है। विभिन्न प्लेटफार्मों के विनिमय शुल्क की सावधानीपूर्वक तुलना करें। कुछ क्रिप्टो प्लेटफॉर्म पर हर गतिविधि पर सख्त प्रतिबंध हैं। इसलिए यदि यह आपका पहली बार है, तो शीर्ष एक्सचेंज कंपनियों की जांच करें जहां आप बिटकॉइन ऑनलाइन या बिटकॉइन एटीएम के माध्यम से खरीद सकते हैं और फिर कोई कदम उठा सकते हैं।

3. क्रिप्टो वॉलेट को परिभाषित करें:
बिटकॉइन खरीदने से पहले आपको एक व्यक्तिगत क्रिप्टो वॉलेट चुनना होगा जहां आप अपने बिटकॉइन रखेंगे। वॉलेट सुरक्षित होना चाहिए क्योंकि एक्सचेंज हैकर्स के लिए अधिक संवेदनशील होते हैं जब वे आपके वॉलेट को पकड़ सकते हैं। भौतिक मुद्रा के विपरीत, आप अपने बिटकॉइन को अपने हाथ में रख सकते हैं। इसलिए चाबियों पर आपका नियंत्रण नहीं है लेकिन आपकी पसंद पर आपका नियंत्रण है। वॉलेट दो प्रकार के होते हैं। हॉट वॉलेट आमतौर पर मुफ़्त होते हैं और इंटरनेट से जुड़े होते हैं। वे संसाधन संचलन और व्यापार को बनाए रखने के लिए उपयोगी हैं। कोल्ड वॉलेट इंटरनेट से कनेक्ट नहीं होते हैं और क्रिप्टोकरेंसी रखने के लिए अधिक सुरक्षित होते हैं। अपने सिक्कों को बचाने के लिए यह एक बहुत अच्छा विकल्प है। भले ही कोई आपका डिवाइस चुरा ले, केवल आप ही इसे एक्सेस कर सकते हैं।

4. धन जमा करना:
बिटकॉइन खरीदने से पहले आपको कुछ फिएट करेंसी जमा करनी होगी। आप बिटकॉइन ऑनलाइन डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड या बैंक हस्तांतरण द्वारा खरीद सकते हैं। अधिकांश लेन-देन के लिए आपको अपना नाम, फोटो आईडी और पता देना होगा। लेन-देन करने से पहले अपने बैंक विवरण की जांच करना भी महत्वपूर्ण है। पैसे ट्रांसफर करने से पहले कुछ अतिरिक्त सावधानी बरतें। आप फंड भी जमा कर सकते बिटकॉइन का व्यापार कहां करें हैं लेकिन यह बहुत उचित नहीं है। उपयोग बिटकॉइन एटीएम यदि आप अपने बैंक विवरण और सुरक्षा स्तर के बारे में सुनिश्चित नहीं हैं।

5. सुरक्षा का अभ्यास करें:
कई एक्सचेंज प्लेटफॉर्म आपको अपने सभी बिटकॉइन बेचने की अनुमति देते हैं, आपके निवेश को छोड़कर। शुरुआती लोगों के लिए यह सबसे आसान है लेकिन अच्छा लाभ कमाने और इसे अधिक सुरक्षित रखने के लिए आपको बिटकॉइन को एक निश्चित स्थिति में रखना होगा। क्रिप्टो वॉलेट आपको अपनी डिजिटल मुद्रा को सुरक्षित रखने में मदद करता है। विभिन्न प्रकार के वॉलेट होते हैं और उनमें विभिन्न स्तरों की प्रतिभूतियाँ होती हैं। एक्सचेंज प्लेटफॉर्म बहुत ही महत्वपूर्ण और तीसरे पक्ष के सॉफ्टवेयर हैं जो आपको नकद के साथ ऑनलाइन और ऑफलाइन बिटकॉइन खरीदने में मदद करते हैं। बिटकॉइन रखने को प्रोत्साहित करने वाले प्लेटफॉर्म और भी बेहतर हैं। उनका उपयोग करके व्यापार करें और क्रिप्टो दुनिया में सफलतापूर्वक अपना स्थान बनाएं।

उजागर
विषय वस्तु विशेषज्ञों का कहना है कि एक फर्म जितनी अधिक सुविधाएँ प्रदान करती है, सेवा उतनी ही अधिक विश्वसनीय होती है। खैर, दुनिया भर में सैकड़ों प्लेटफॉर्म हैं जो आपको बिटकॉइन में व्यापार करने का अवसर देने की प्रतीक्षा कर रहे हैं। आपको बस यह तय करना है कि कौन सा आपके लिए सही है। तो आप किसका इंतज़ार कर रहे हैं? आज ही अपना मौका लें और अपनी क्रिप्टो यात्रा बुद्धिमानी से शुरू करें!

रेटिंग: 4.15
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 781
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *